ગુંજન ભાભી ની માલીશ

अमर फोटो स्टुडिओ नाटक

अमर फोटो स्टुडिओ नाटक, पूरी ट्यूब खाली करके मैं सोफे पर ऐसे गिर पड़ा कि आँख खोलने की हिम्मत भी न रह गई और जब खुली तो मैडम पास ही बैठीं मेरासर सहला रहीं थीं। फिर जब नितिन हटा तो मैं उसकी गाण्ड के स्पर्श के साथ चूत चोदने पर उतर आया। हालांकि नितिन के मोटे लण्ड से चुदने के बाद मुझे वो मज़ा नहीं आ पा रहा था, लेकिन अब छोड़ भी तो नहीं सकता था।

दोनों कूल्हों को फैला कर छेद को अच्छे से तेल से भिगाया, मसला और उंगली को अंदर बाहर करते छेद की भी मालिश की। ‘यार समझ मेरी जान, कुछ भी है, कितना भी खुलापन है हम दोनों के बीच मगर भाई है। कैसे मैं उससे समझाऊं कि क्या क्या करना है। कितनी बेशरम हो जाऊं।’

चलो.. अब थोड़ी दारू पिलाओ मुझे, और हाँ मौसा, आपको सही में दिमाग़ नहीं है... हहेहहे ये कहके पूजा एक बार फिर अपनी गान्ड मटकाने लगी और किचन में जाके बियर्स ले आई और सब फिर से पीने बैठ गये.. अमर फोटो स्टुडिओ नाटक मैने फोने कट करके जल्दी से बॅंक मे लोगिन किया और देखा पैसे कितने हैं.. कॅल्क्युलेशन्स ही कर रहा था तभी दरवाज़ा नॉक हुआ

गांड चोदने वाली सेक्सी

  1. देख पायल... अगर इन सब में कहीं माया बुआ इन्वोल्व है तो मुझे बता दे... अगर पूजा की बात में ज़रा सी भी सच्चाई निकली, तो तू मुझे अच्छी तरह जानती है.. मैने पायल को धमकाते हुए कहा...
  2. ज़ोर-ज़ोर से सिसकरते हुए वह सोनू के शरीर को अपने शरीर से रगड़ते भींचने लगी, योनि की मांसपेशियां फैलने सिकुड़ने लगीं और कंपकंपाहट के साथ वह स्खलित होने लगी। दुनिया की सबसे अच्छी क्रीम
  3. सुबह से जो दिल बहुत खुश था... सुबह से पूजा का बर्ताव देख के जिस दिल को सब से ज़्यादा सुकून मिला था...पायल का एसएमएस देख के वो दिल मानो ज़मीन पे गिर के चूर चूर हो गया था... पायल ने मेरे एसएमएस का जवाब दिया भी तो क्या... के बार बार मैं उसे तंग ना करूँ... ऊह हुह... वी हॅव दा पवर नाउ डॅड... आप भूल रहे हैं, पूजा भी इसमे हिस्सा रखती है.. मैं सोफे पे बैठ गया था अब
  4. अमर फोटो स्टुडिओ नाटक...जिस चीज़ को मैं सुलझाना चाहता हूँ, उसमे खुद उलझ रहा हूँ... कैसे सुलझेगी ये गुत्थी.. मैं सोचते सोचते नहाने चला गया.... रेडी होके नीचे गया तो जैसे मानो कोई फेस्टिवल हो.. पूजा और मोम सबसे ज़्यादा तैयारियाँ कर रहे थे किचन में खाने की हां छोटू, कल सब ख़तम... अगर जैसा हमने सोचा है वैसे हुआ तो तेरे लिए एक बहुत ही बढ़िया सर्प्राइज़ भी है मैने ललिता को देख के कहा
  5. जी इसमे इजाज़त कैसी... बेशक आप इन्हे ले जाइए, शायद शन्नो को माहॉल बदलने से कुछ फ़ायदा मिले... और ललिता बेटे, तुम भी जाओ मोम के साथ, उनको ज़रूरत पड़ेगी... मोम ने ललिता से कहा... भाई साब, अंशु का फोन आया था कुछ देर पहले, आपकी इजाज़त हो तो हम उनके घर से जल्दी होके आते हैं विजय ने पापा से पूछा

கேரளா நடிகை செக்ஸ் வீடியோ

मैं चुप हो गयी.. जानती थी भैया नहीं बताएँगे और मुझे सोचना नहीं था... मैने सब छोड़ के अपनी ड्रिंक ख़तम करने लगी.. हम आगे की प्लॅनिंग ही कर रहे थे , तब मेरे सेल पे स्मस आया

मैं पहले उनके भगांकुर को जुबान की नोक से छेड़ते रहा, फिर साइड की कलिकाओं को होंठों में दबा दबा कर ज़ोर शोर से खींचने लगा और मैडम पानी की बूंदों में मस्त शरीर को मादक लहरें देतीं मीठी मीठी सिसकारियाँ के साथ मचलने लगीं। विजय:- कोई बेचारी नहीं... अब कुछ दिन पहले देखा था मैने डॉली को किसी बाहर के लड़के के साथ मूह मारी कर रही थी... साली को जहाँ दिमाग़ चलाना है वहाँ कुछ कर नहीं रही... और बाहर अपनी मा चुदवाने में लगी है...

अमर फोटो स्टुडिओ नाटक,पूजा अब ललिता के पास खड़ी थी और दोनो एक दूसरे को दिलासा दे रहे थे… मोम डॅड से अलग होके मैं शन्नो के पास गया... धीरे धीरे मेरे कदम शन्नो के नज़दीक पहुँच रहे थे, मैं जैसे ही शन्नो के पास पहुँचा, मुझे देख शन्नो खड़ी हो गयी..

फिर से पायल उसकी ब्रा पैंटी में आ गयी और दरवाज़ा खोलके देखा तो बाहर कुछ लोग खड़े हुए थे और उनके साथ एक बंदा जो कि शायद मॅनेजर लग रहा था

रामलाल को ये सब पहले ही ठीक नहीं लग रहा था एक तो पहले उस औरत को सिर्फ इस लिए घर से निकाल दिया की वो माँ नहीं बन सकती थी फिर कोई उसे अपने यहाँ रख भी नहीं रहा था । रामलाल लखन सिंह से कहता है ताऊ जब तक उस औरत के कही रहने की व्यवस्था नहीं होती तब तक वो मेरे घर में रह सकती है ।నేను సెక్స్ వీడియోస్

अरे आओ बेटा, इतनी देर कहाँ रह गये तुम दोनो.. पूजा ने इतने प्यार से तुम्हारे लिए खाना बनाया है मोम ने ज़य को डाँट के कहा विजय ने तुरंत अपना मूसल एक ही झटके में डॉली की गान्ड में घुसा दिया, और फिर उतनी ही तेज़ी से बाहर भी निकाला... डॉली की तो मानो हलक में लंड उतार गया हो...उससे रहा नहीं गया, वो चीख पड़ी

मैं उंगली सिर्फ उतनी गहराई तक ले गया था कि उसकी झिल्ली को कोई क्षति न पहुंचे और उसकी सीमा जान कर मैं उतनी गहराई में ही उंगली अंदर बाहर करने लगा।

अब उसका मुंह ठीक सोनू के लिंग के ऊपर था और सोनू के मुंह के ठीक ऊपर उसकी योनि… सोनू ने उसके नितंबों को सहलाते उसे थोड़ा नीचे करके अपनी सुविधानुसार एडजस्ट कर लिया था।,अमर फोटो स्टुडिओ नाटक जब तक वापस आई, बिस्तर की चादर चेंज कर के रानो बिस्तर की हालात सुधार चुकी थी और उसके लेटते ही उसने लाइट बंद कर दी और खुद भी आ लेटी।

News