एकदम देहाती बीएफ

ससुर पत्तों का बीएफ

ससुर पत्तों का बीएफ, इसके पश्चात उसने अपने होंठ दीप के होंठो से जोड़ दिए और दोनो नंगे जिस्म आपस में गुथ्ते चले गये .... निम्मी के नुकीले व तने निपल्स उसके पिता की वृहद छाति में धसने से दीप की आँखें खुलने लगी और उसने अपनी मजबूत बाहों में अपनी नन्ही सी जान को समेट लिया. मैं सोचने लगी, उस रात जब अशोक इतनी देर से वापिस रूम में आये थे, तब हो न हो वो पायल के साथ ही थे, एक कंडोम तब यूज हुआ होगा. शायद पायल को अभी तक पता नहीं हैं कि मेरे पति किसी को माँ नहीं बना सकते.

साथ ही मैं राहुल के बारे में भी सोच रही थी। वो मेरे लिए कितना चिंतित था और मेरे जैक या जोसफ के साथ समय बिताने पर उसको कितना फर्क पड़ रहा था। इतनी फिक्र तो मेरे पति को भी नहीं होती। वहीं कम्मो सपने से हक़ीक़त मे आते ही चौंक गयी ..इस तरह के लफ्ज़ उसने दीप के मूँह से कभी नही सुने थे ..ख़ास कर अपने बच्चो के लिए

उन्होंने मुझे अब सीधा लेटा दिया और अपने हाथ में एक लंबी सी पंखनुमा चीज पकड़ ली. मुझे लग गया वो मुझे गुदगुदी करने वाला हैं. ससुर पत्तों का बीएफ उसका लुस्थफुल्ली संवाद सुनकर दीप के होश उड़ गये .... वह हैरान रह गया जैसे उसके सामने उसकी बेटी नही कोई अजूबा खड़ा हो .... उससे कोई जवाब देते नही बॅन पाया, हलक से आवाज़ बाहर आती भी तो कैसे .... निम्मी ने अपनी उंगली उसके मूँह में घुमानी जो शुरू कर दी थी.

सेक्स वीडियो देसी इंडियन

  1. उन्होंने मुझे अपनी गोद में उठा लिया था. वो मुझे बेडरूम में ले गए. मुझे आईने के सामने खडी किया और नीचे से गाउन पकड़ कर उठाते हुए मेरे सर से बाहर निकाल दिया. उन्होंने मुझे उठाया और बिस्तर पर उल्टी लेटा दिया.
  2. सुन बेटी अब तू बड़ी हो गयी है ..इस तरह का बच्पना छोड़ ..तेरे अलावा कोई इस घर मे इतना ज़िद्दी नही ..अब तू कोई 6 महीने की बच्ची तो नही जो तेरी हर बात को माना जाए जालना जिल्ह्याच्या बातम्या
  3. उसने अब कलर मेरी नंगी बाहों पर लगा दिया. और फिर थोड़ा कलर और ले मेरे पेट और कमर पर मलता हुआ मेरे बदन को छूने के मजे लेने लगा. वो नजारा ऐसा था जैसे संगमरमर को एक काली मशीन घिस घिस कर चिकना बना रही थी। जोसफ बिस्तर का सहारा ले तेज झटके मार रहा था।
  4. ससुर पत्तों का बीएफ...------------------------------------------------------------------------------------------------------ नितिन ने अपनी टीशर्ट निकाल दी थी और अब आगे झूक कर मेरे मम्मो को चूसने लगा. थोड़ी देर चूसने के बाद मुझ पर पूरा लेट गया. उसके वजन से मेरे मम्मे दब गए और उसने मुझे चोदना जारी रखा.
  5. थोड़ी ही देर में वो चीखते हुए आहें भर झड़ गया। मैं जब उस पर से उठी तो मेरी गांड और जाँघे फड़फड़ा रही थी और उसका छोड़ा पानी मेरी गांड से झर रहा था। पेशाब से तर - बतर काली झांतो का घनत्व कम्मो को अपनी तरफ आकर्षित किए जा रहा था और उनमें से उठती मादक मर्दाना गंध उसके नाथुए फुलाने लगी थी ..... वह जितनी गहराई तक उस अधभूत सुगंध को अपने अंदर समा सकती थी, समाने लगी.

बिना मां की बेटी

जहा वो चोद रहा था वहा मजे से आहें तो आना मुश्किल था, पर हलके दर्द से कराह जरूर शुरू हो गयी. उसको इसी में संतोष मिल गया.

इस बीच मेरे फ़ोन पर पांच छह पेंडिंग मैसेज डिलीवर हुए। फ़ोन काट कर मैंने नोटिफिकेशन देखे एक मैसेज जोसफ का था, कोई मीडिया भेजा था। कही ये मेरे और उसके बीच उस दिन हुई चुदाई का वीडियो तो नहीं। मेरी तो मैसेज खोलने की हिम्मत ही नहीं। वैसे भी राहुल ने बोला था कि सैंड्रा सब संभाल लेगी। निम्मी की चूत अब किसी भी पल झाड़ सकती थी ..उसके बूब्स सख़्त और निपल नुकीले पर नुकीले होने लगे ..थोड़ा सा चेहरा और नीचे झुका कर निम्मी लंड के सुपाडे को सूंघने लगी ..कयि बार ज़ोरदार साँसें अंदर बाहर करने के बाद लंड की खुश्बू जैसे उसकी रूह मे समा गयी

ससुर पत्तों का बीएफ,अब कम्मो आज़ाद थी, उसने पूरी ताक़त लगा कर अपनी रस भीगी योनि बेटे के लंड से चिपका दी और अपने बदन का सारा भार भी उसके ऊपर डाल दिया ...वहीं निकुंज उसकी ब्रा का हुक खोलने में नाकाम रहा और फॉरन उसके हाथ तेज़ी से मा के चूतड़ो की दिशा में बढ़ गये.

दीप भी चीखा, कार एक झटके के साथ बंद हो गयी और रोड के रश ट्रॅफिक को ध्यान मे ना लाते हुए, वो भी निम्मी के पीछे दौड़ पड़ा

राहुल: मैंने सैंड्रा से बात की थी जोसफ के बारे में। जोसफ कल बाहर जा रहा हैं किसी ख़ास काम से, अगले हफ्ते उसके आने के बाद सैंड्रा उसे समझा देगी।बीएफ सेक्सी औरत

तनवी दर्द से बहाल हो कर ज़मीन पर लॉट लगाने लगी ..चुतडो के साथ अब जीत की आँखों ने अपनी बेटी की वर्जिन चूत को भी जी भर कर देखा ..बीवी की मौत का इससे अच्छा बदला वो कभी नही ले पाता ..तनवी मे उसे सिर्फ़ और सिर्फ़ रश्मि के कातिल होने की छवि दिखाई दे रही थी पर अशोक ने आते ही मुझे शांत कराया और बोला कि उसको सब पता हैं ये सब रंजन की चाल हैं. रंजन मेरे सिर्फ मजे ले रहा हैं तो मैं ज्यादा चिंता ना करू. रंजन ने रास्ते में अशोक को सब सच बता दिया था. ये सुन कर मुझे इतनी राहत मिली कि मेरे आंसू छलक गए.

बेहद गरम और गाढ़े पानी की दो फुहार अपने चेहरे पर झेलने के तुरंत बाद निक्क ने हड़बड़ा कर ऊपर उठना चाहा लेकिन ठीक उसी वक़्त निकुंज चीखा ..... आअहह...... न .. निक्की प्लज़्ज़्ज़ एक बार चूस इसे ...... निकुंज की सिसकारी छूट गयी

लगभग 2 -3 मिनट के गॅप के बाद निकुंज ने उसके पैर की उंगलियों पर अपने हाथ का स्पर्श दिया ..लोवर की थ्रेड इतनी ज़्यादा उखड़ी थी कि अंदर पहनी नीली पैंटी की हल्की सी झलक लोवर के उधडे हिस्से के ऊपेर से दिख रही थी,ससुर पत्तों का बीएफ ज़ोरदार आलिंगन लेते हुए दोनो एक दूसरे मे खुद को समाने लगे और रज से वीर्य का मिलन चूत से बह कर बिस्तर पर बिछि चादर को भिगोने लगा ....

News