हिन्दी सैक्स विडीयो

माँ की अधूरी इच्छा

माँ की अधूरी इच्छा, अमन की बात सुनकर और आरू को होश मे देख कर सबकी आँखें खुशी से भीग गयी थी. सब आरू को होश मे देख खुशी मना रहे थे और जब ये खुशी मनाने का दौर थमा तो, सेलिना ने सीरत से कहा. अर्चना बोली वो आपकी शादी की बात कर रहे थे. बड़े दादू आपकी शादी के लिए लड़की ढूँढ रहे और उन्हो ने छोटे दादू को भी लड़की देखने को कहा है. छोटे दादू ने पापा को भी कोई अच्छी सी लड़की देखने के लिए कहा है.

राज बोला यार, तेरी उस से बात चीत चलती है तो, तू उसको पटाने मे मेरी मदद कर, मैं भी वादा करता हूँ कि, जब वो मुझसे पट जाएगी तो, हम दोनो मिल कर उसकी बजाएँगे. कीर्ति की इस बात ने किसी तीर की तरह मेरे दिल पर असर किया और मेरे आँसू खुद ब खुद थमना सुरू हो गये. कुछ पल बाद जब कीर्ति को अहसास हुआ कि, अब मेरे आँसू थम गये है तो, उसने मुझसे कहा.

इतनी बात कह कर लड़की बात करते करते चुप हो गयी और आरू की तरफ देखने लगी. अब तक मैं समझ चुका था कि, ये सब किया धरा सीरू और सेलू का है. इसलिए मैने उस से कहा. माँ की अधूरी इच्छा ये कहते हुए खालिद ने उसे गले से लगा लिया. पोलीस और मुजरिम का ऐसा दोस्ताना मैं पहली बार देख रहा था. इस सब मे मैं दुर्जन को तो भूल ही गया था. वो भी हैरानी से इस सब नज़ारे को देख रहा था.

देवर भाभी की फुल सेक्सी वीडियो

  1. प्रिया की इस बात के जबाब मे, ना तो मुझसे, ना बोलते बन रहा था और ना ही हां बोलते बन रहा था. मैं मुस्कुरा कर रह जाने के सिवा कुछ ना कर सका. लेकिन प्रिया मेरी इस मुस्कुराहट का मतलब समझ गयी थी. उसने मेरी हालत पर ठहाके लगाते हुए कहा.
  2. कीर्ति बोली ओके बाबा, अब तुम गुस्सा मत करो. आयेज से ऐसा कुछ नही होगा. अब ये बोलो आगे क्या करने का इरादा है. मुझे तो लगता है कि, अज्जि की जिंदगी मे अब सब कुछ ठीक हो गया है. न्यू सेक्सी वीडियो फिल्म
  3. आज्जि की बात सुनते ही, सीरू ने उस कार के ड्राइवर को चाबी लेकर बुलाया जिस मे वो और सेलू आई थी. फिर ड्राइवर से चाबी लेकर उसने वो अज्जि को दे दी और ड्राइवर से कहा. छोटी माँ की बात सुनकर मैं सन्न रह गया. मेरे पास उनकी इस बात का कोई जबाब नही था और मैं खामोश रहने के सिवा कुछ ना कर सका. मुझे खामोश देख कर उन्हो ने फिर कहा.
  4. माँ की अधूरी इच्छा...शिखा बोली मेरी फिकर मत करो और मुझे मेरे हाल पर छोड़ दो. तुम लोग यहाँ से जाओ और अपने दोस्त से भी कह दो कि, अब मेरे घर, मेरी जिंदगी से हमेशा हमेशा के लिए चला जाए. मेरी बात सुनकर, नेहा के चेहरे पर रौनक आ गयी और उसने मुस्कुराते हुए, सबके साथ आने की हामी भर दी. मेरी अभी नेहा से बात चल ही रही थी कि, तभी मेहुल और हीतू आ गये. मेहुल को देख कर, मैने नेहा से विदा ली और मैं हीतू के पास आ गया.
  5. अपनी बात पूरी करने के बाद मेहुल अंकल के पास चला गया. मेहुल के जाने के बाद, सब एक एक करके प्रिया से मिले. फिर 9:15 बजे अंकल, आंटी, दादा जी और रिया घर चले गये. सलीम बोला मैने सिर्फ़ निक्की बाजी को देखा था. लेकिन खुदा कसम मुझे नही पता था कि, वो मेरी बाजी है, वरना मैं ऐसी हरकत कभी नही करता.

बीएफ सेक्सी सेक्सी हिंदी

ये कह कर अजय हँसने लगा. अजय की आरू को बहलाने वाली इस हरकत को देख कर, मेरी और अमन की भी हँसी छूट गयी. मगर आरू तो, अजय की सारी बातें पहले ही सुन चुकी थी. इसलिए वो अजय से इस बात को लेकर झगड़ा करने लगी.

अजजी की बात सुनते ही सीरू उस से लिपट कर रोने लगी. सीरू के ये आँसू उसके खुद के लिए नही, बल्कि अपने भाई के उस दर्द को महसूस करके बह रहे थे. जो उसका भाई अपनी ज़ुबान से कह नही पा रहा था. दोनो ने छोटी माँ को देखा तो, हैरानी से बस देखते ही रह गये. क्योकि छोटी माँ उमर मे उन दोनो से ही छोटी थी और ये किसी भी तरह से नही लगता था कि, वो मेरी माँ है.

माँ की अधूरी इच्छा,मेरी ये बात सुनकर, प्रिया फिर से अपनी बाकी की शॉपिंग मे बिज़ी हो गयी. इस बीच मैने भी प्रिया के लिए लोंग स्कर्ट टॉप खरीद लिया. प्रिया सारी शॉपिंग जल्दी जल्दी ही कर रही थी. फिर भी हमे शॉपिंग करते करते 3 बज गये.

लेकिन आज उसके ना होने से, अब मेरा ही घर मुझे काटने को दौड़ने लगा था. मुझे अपने ही घर मे एक पल भी रहना मुस्किल सा लगने लगा था और मैं एक बार फिर से अपने आपको बिल्कुल अकेला महसूस करने था.

धरम पल खन्ना के हमारे पड़ोसी होने की वजह से जल्दी ही उनकी दादा जी के साथ दोस्ती हो गयी और फिर दोनो का एक दूसरे के घर मे आना जाना भी होने लगा. एक दिन दादा जी धरम पाल जी के घर गये.पुष्पा सेक्सी वीडियो

लेकिन जैसे ही सीरत ने निक्की का उतरा हुआ चेहरा देखा तो, उसे अपनी ग़लती का अहसास हुआ और उसने फ़ौरन अपने मज़ाक को संभालते हुए कहा. जिसकी वजह से उसका गोरा रंग और भी ज़्यादा निखर गया था. मैने उसे देखा तो, देखता रह गया. मेरे साथ ऐसा जिंदगी मे पहली बार हो रहा था की, मैं किसी लड़की को देखने से खुद को रोक नही पा रहा था.

आज्जि शिखा को पहली मुलाकात से ही देखते आ रहा है. जब ये बात हम मे से किसी की नज़र से नही छुप सकी तो, फिर भला शिखा की नज़र से कैसे छुप सकती है. वो इस बात को अच्छी तरह से समझती है कि, अज्जि उसे पसंद करता है और शायद ये ही बात उसे भी अज्जि की तरफ खीच कर ले जा रही है.

दादा जी ने मेरी तरफ देखा. उनकी पारखी नज़र एक बार मे ही ये ताड़ चुकी थी कि, मैं अमन को क्यो पुच्छ रहा हूँ. उन्हो ने भी मुझे मेरी ही तरह जबाब देते हुए कहा.,माँ की अधूरी इच्छा मैं बोला तुम सीडियों पर खड़ी, इतनी देर से मुझे किसी से बात करती देख रही हो. लेकिन तुमने मुझसे ये तक नही पुछा की, मैं इतनी देर किस से बात कर रहा था. ऐसा क्यो, क्या मैं जान सकता हूँ.

News