लड़की को चोदने से क्या होता है

हॅलो सोलापूर ग्रामीण

हॅलो सोलापूर ग्रामीण, राहुल-पागल है क्या मम्मी को बताऊंगा तो पता है कितनी डांट पड़ेगी दोनों को ,मैं अकेले ही चला जाऊँगा डॉक्टर के पास । भाई अगर इतना ही बुरा लग रहा था तो तुम कल रात को ही मना कर देती. कल तो तुम कुछ बोली नही और आज मुझ पर चढ़ रही हो. मैं भी अब थोडा नाराज होकर बोला.

अगले दिन नितिन बड़ी बेसब्री से अपनी बहन का वेट कर रहा था, पर वो थी की अपने कमरे मे बंद होकर अपनी अभी तक की कहानी काव्या को सुनाने मे लगी थी.. ये काम वो काफ़ी समय से समीर के साथ भी करना चाहती थी..पर अपनी घरेलू औरत वाली इमेज के चलते वो कर नही पा रही थी...पर आज जैसे उसको सब कुछ करने की छूट सी मिल गयी थी..

अब वो मेरे मुंह के सामने अपनी टांगें फैला कर बैठ गये और अपना लन्ड पहले मेरे गालों पर रगड़ा, फिर मेरी नाक में डालने लगे, बोले- तुमसे सेक्सी नाक इतनी सुंदर किसी की नहीं है.और बहुत ही अजीब पर नशीली खुशबू लंड की नाक में घुस गयी. हॅलो सोलापूर ग्रामीण विक्की उसकी बात समझ गया..पर रश्मि अभी नंगी थी...वो सूरज से बोला : तुम लोग बाहर जाओ...मैं इन्हे लेकर आता हू...''

ब्लू पिक्चर सेक्सी भोजपुरी

  1. रश्मि को ऐसा लगा की उसने अमृत पी लिया है...उसका शरीर हवा मे उड़ता हुआ महसूस हुआ उसको..नशे का एक झटका सा लगा उसके शरीर को...उसकी आँखे बोझिल सी होने लगी और वो लड़खड़ा सी गयी..
  2. उसकी बात सुनकर श्वेता मायूस हो गयी, उसने सोचा था की आज शायद XXX देखते हुए उसका भी मन बन जाए और वो अपने बॉय फ्रेंड से चुद जाए..पर ये तो XX मूवी निकली.. बीपी सेकसी विडियो
  3. रवि(लन्ड को रमा की चूत से बाहर खींचते हुए) -अब जब शेर के गले में मैंने पट्टा डाल ही दिया तो इसकी सवारी करके देखो ज़रा । अब उसने काव्या के शरीर को अपनी आँखो से सेंकना शुरू कर दिया...उसकी सुराहीदार गर्दन ...घने बॉल....गोरे और चिकने कंधे ...और नीचे की तरफ उसकी फैली हुई गांड ..जो गीले टावल मे लिपटे होने की वजह से साफ़ दिखाई दे रही थी ..और वो तिरछी होकर बैठी थी, जिसकी वजह से उसकी मोटी-2 जांघे भी वो देख पा रहा था ...
  4. हॅलो सोलापूर ग्रामीण...उसकी बात सुनकर नितिन का चेहरा एक दम से खिल उठा...पर सिर्फ़ श्वेता ही जानती थी की उसके दिमाग़ मे क्या चल रहा है.. शेफाली- ये भी कोई पूछने की बात है, ये कोई अंधा भी बता दे कि इतना बड़ा लौड़ा एक घस्से में पूरा अंदर नहीं जा सकता।
  5. और यही कसक काव्या भी महसूस करना चाहती थी..वैसे भी पहली चुदाई की कसक तो हर किसी को याद रहती है, पर अगर वो ललचा कर की जाए तो उसकी बात ही कुछ और होगी... तभी मेरे पेंटी के ऊपर से ही जहां मेरी चूत थी, वहां चूम लिया और बोले- क्या मस्त खुशबू है तेरी चूत की, बहुत गजब की आइटम है तू!और पेंटी के ऊपर से ही जहां मेरी चूत है उस फूली हुई जगह पर अपनी नाक रगड़ने लगे.मुझे गुदगुदी सी होने लगी और अजीब सी सुरसुराहट चूत में महसूस हुई.

బాయ్స్ హెయిర్ స్టైల్

काव्या का नाम सुनते ही सभी को याद आ गया की वो कौन है...रश्मि के तो तन बदन मे आग सी लग गयी, उन लफंगो के मुँह से अपनी बेटी का नाम सुनकर.

वो थोडा सम्भला और बोला : नहीं, ऐसा नहीं है कि मैंने पहले कभी ब्रेस्ट नहीं देखि, बस मुझे अंदाजा नहीं था कि तुम ऐसा कुछ करोगी, वैसे सोचकर देखो, अगर तुम्हारे पापा और मम्मी को पता चला कि तुम नाव पर मेरे सामने इस तरह से टॉपलेस बैठी हो तो क्या होगा '' पर तभी उसे आएशा की चीख सुनाई देती है उसकी आँखें बरबस अपनी बहन की ओर चली जाती है वो अपना बाएं स्तन को सहला रही थी ...यानी मित्तल ने आएशा के मम्में को बहुत ज़ोर से दबाया होगा ।

हॅलो सोलापूर ग्रामीण,चाचा बोले- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा और मैं संध्या की गांड में लंड डाल रहा हूं.उन्होंने मेरे कूल्हों को फैला कर गांड को चाटना शुरू किया. मुझे बहुत गुदगुदी होने लगी. अब चाचा ने अपना लंड निकाल कर मेरी गांड पर रखा.चाचा ने बोला- संध्या, देखना मैं तेरी गांड में डाल रहा हूं.

काव्या : बस माँ , उसको एक काम याद आ गया...वो चला गया..पर कल मिलने बुलाया है मुझे ...एक़्वा वॉटर पार्क में.''

इतना सुनते ही जैसे काव्या के अंदर किसी उर्जा का संचार हो गया, उसने अपने दोनो हाथों से उसकी चूत के होंठों को पकड़ा और जैसे ही माँस इकट्ठा होकर उभरा, उसने उस उभरे हुए भाग को अपने मुँह मे लेकर किसी लॅंड की तरहा चूसना शुरू कर दिया,அக்கா தம்பி ஓல்

पूरा कमरा सनी की कामुक आवाज़ों और फच-2 के संगीत से सराबोर हो गया। लियोनी अपनी मोटी गांड पीछे कर करके अपनी चूत मरवा रही थी, राहुल उसके ऊपर सांड की तरह चढ़ा हुआ था, सनी को कमर से पकड़ के झटके दिए जा रहा था। तभी चीखती चिल्लाती रश्मि कि चूत से समीर का लंड निकल आया और पीछे-२ निकला रश्मि का ढेर सारा पेशाब , और वो भी फव्वारे कि शक्ल में ....

बेटा तो नहीं है न ? और इतना ही बेटा मानती हो तो उसे नोकरों की तरह क्यों रखती हो? फिर बेटा नहीं माँ के दुख दूर करेगा तो क्या दुश्मन करेंगे?तरन ने प्यार भरी आवाज़ में रमा से कहा ।

मैं बोली- पीयूष, मेरे दूध दबाओ दोनों हाथों से पकड़ कर जोर जोर से!तभी पीयूष मेरे चूचों को दबाने लगा.मैं बोली- और जोर से दबाओ!तो उसने फिर और ताकत से दबाया, मुझे बहुत कुछ होने लगा, अब मैं बोली- पीयूष दोनों चूचों को चूसो!,हॅलो सोलापूर ग्रामीण रश्मि जानती थी की वो अच्छी तरह से आ जाएगा उसके बदन पर...फिर भी थोड़ा और मज़ा लेने के लिए उसने राघव की बात मान ली...वो देखना चाहती थी की विक्की को भी क्या वो ड्रेस पसंद आएगी..क्योंकि राघव की उम्र भी लगभग विक्की के जितनी ही थी..

News