चूत दिखाओ चूत चूत

लैंड चुस्ती हुई

लैंड चुस्ती हुई, हां भाई बहुत मज़ा आरहा है अगर मुझे पहले पता होता कि चुदवाने मे इतना मज़ा आता है तो शायद तू कभी भी मेरी गान्ड नही मार पाता मैं पहले ही तुझसे चुदवा लेती, चल अब ज़रा ज़ोर ज़ोर से धक्के लगा मिली मेरी पीठ सहलाते हुए बोली उन्होने वो दोनो पोलिथीन की थैलियाँ ली, और मेरे हाथ पर लगे बॅंडेजस पर लपेट दी, और उनको किनारे से टेप से चिपका दिया. ये बहुत अजीब लग रहा था.

जब मैं तान्या के रूम के सामने से गुजरा तो आवाज़ उसके रूम के अंदर से आती हुई लगी. मेरे मूँह से निकला बेहनचोद.... धीरज भैया ने ही कुछ बोलकर बात चीत शुरू की. और जो कुछ उन्होने बोला, वो सुनकर मैं काँप उठी. भैया बोले, तुम अगर चाहो तो वो ख़तम कर सकती हो, जो तुम कर रही थी.

खैर, मैंने अपने पप्पू को अपने हाथ से मसला और उसे शांत रहने की हिदायत दी। फिर मैंने हाथ-मुँह धोए और उपरी मंजिल पर पहुँच गया जहाँ सब लोग खाने की मेज पर बैठे मेरा इन्तजार कर रहे थे। लैंड चुस्ती हुई बोलो न आंटी….क्या जानबूझ कर किया था या गलती से हो गया था….? अगर जानबूझकर किया था तो अधूरा क्यूँ छोड़ दिया और अगर गलती से हो गया था तो गलती की सजा भी मिलने चाहिए ना !! मैंने उनके चेहरे से बिल्कुल सटकर कहा।

ब्लू फिल्म हिंदी मै

  1. अच्छा हमको तो पता ही नही था, आप भी मुझे छेड़ना चाहते हैं? तान्या ने बनावटी गुस्से में अपनी आइब्रो चढ़ाते हुए जवाब दिया.
  2. kutta bina chode tu jhada to teri gaand maar lungi mmmmmm waahhh ssss kabhi aisa nahi mila mujhe haaye kameene pehle hi dikha dete apna saaman to tumhari kamla ko itna natak thodi na karna padta wohi khet mein hi tere aur tere dost se chudai karwaati ब्लू सेक्स वीडियो दिखाएं
  3. मिली की बात सुनकर मैं हक्का बक्का रह गया था मुझे उम्मीद नही थी कि वो इतनी आसानी से मुझे अपनी चूत सौंप देगी मेरा मूह खुला का खुला रह गया और मेरे मूह से निकला क्याअ... मामाजी:= हो गयी तुम्हारी आग ठंडी? अब जरा इसे भी ठंडा कर दो ना....उन्होंने मेरा हाथ अपने लंड पे रखते हुए कहा।
  4. लैंड चुस्ती हुई...नेहा दिनभर बड़ी खुश थी क्यू की उसे पता था आज चुदाई पक्की है।मेरी भी हालत उससे कुछ अलग नहीं थी। रात को चुदने के ख़याल से ही चूत में दिन भर पानी आता रहा। उसे अब मेरी और से कोई सहयोग नहीं मिल रहा था सिवाय इसके कि मैं अब भी उसका लिंग अपनी योनि के अन्दर रखे हुए थी।
  5. मौसी के निपल्स अब कड़े होने लगे थे, और उनको कुछ समझ में नही आ रहा था. मैं मौसी के मस्त मम्मों को निहार रहा था. फिर मैने अपने हाथ बढ़ा कर हल्के से उनके दोनो मम्मों को छूआ, और निपल्स के उपर अपनी उंगली गोल गोल घुमाने लगा. हां, क्योंकि उसके तो कोई भाई है नही, इसलिए शायद वो समझ गयी कि दबे छुपे कयि घरों में ऐसा होना आम बात है.

सेकसी लव शायरी हिंदी

धीरज अपनी बीवी की चिकनी चूत में उंगली घुमाने लगा, और उसका अंगूठा डॉली की चूत के दाने को सहलाने लगा. जैसे ही डॉली ने किस करना बंद किया, धीरज ने पास वाले निपल को अपने मूँह में भरकर चूसना शुरू कर दिया, और अब वो डॉली की चूंची का चूस कर आनंद लेते हुए, उसकी चूत में उंगली कर रहा था.

नानाजी:=अरे नेहा हमारे बिच का रिश्ता निकाल दोगी तो हम सिर्फ आदमी और औरत ही रहते है। बस यही सोच के तो मैं तुम दोनों के साथ ये सब कर रहा हु। नानाजी सिर्फ अंडरवियर में उलटे लेटे हुए थे। नेहा अपनी स्कर्ट उठा के अपनी नंगी चूत और गांड उनके गांड पे रगड़ती हुयी उनकी पीठ दबा रही थी।

लैंड चुस्ती हुई,थोड़ी जगह बनते ही मैंने दो उंगलियाँ अंदर डाल दी और वो भी कमर हिला हिला के मेरी उंगली से चुदने लगी। मिली ने अपना मुँह पीछे घुमाया और हम किस करने लगे।

apun kya kar sakta hai sahab? padhi likhi samjhdar oonke parivar waale oonka accha bura soche oonka protection kare apun ka oosse sirf ek profession wala vaasta wo meri kabhi kabhar ki passenger aur apun ooska taxi driver

chodh chodh ek randi ke liye ooska customer itna nahi sochta waise bhi darindagi aur hawas mitane ke baad mard masoom kutta hi ban jata hai.......samar ko gussa nahi aayaमधु तृषाकर फुल वायरल वीडियो

भैया एक कदम और मेरे पास आ गये, मेरे बेड के और ज़्यादा करीब. मैने एक गहरी साँस ली, और अपने आप पर और अपनी भावनाओं पर काबू करने का प्रयास करने लगी. वो थोड़ा और करीब आ गये, वो अब मेरे से बस कुछ ही फीट की दूरी पर थे. फिर वो बोले, मुझे पता नही पिछले कुछ समय से कैसे अजीब अजीब सपने आ रहे हैं. अब और बर्दाश्त नहीं कर सकता था। मैं अपनी कुर्सी से उठ गया। मेरे उठने से प्रिया के हाथों से मेरा लंड छूट गया और मेरा हाथ भी उसकी चूत से हट गया।

मैं घबराता हुआ बोला, दीदी मुझे लगता है, कि अगर हम ने शादी से पहले ऐसा वैसा कुछ किया, आप को तो मालूम ही है कि मुझसे सब्र नही होता, और मैं कुछ ग़लती कर बैठा तो तान्या पता नही कुछ ग़लत ना समझ ले? और शादी के लिए मना ना कर दे.

मुझे भी, मम्मी बोली. मैने मम्मी की तरफ देखा. वो फिर से मेरे खड़े हुए लंड को देख रही थी. तभी उन्होने अपनी नज़रें उठा के मेरी तरफ देखा, और उनका चेहरा लाल हो गया. मेरा मतलब... मेरा कहने का मतलब था, कि मैं भी सारे कपड़े उतार कर नंगी ही सोती हूँ.,लैंड चुस्ती हुई ऐसा नही है बुआ, कि कुछ नही किया, लेकिन..... मैं थोड़ा सावधान होते हुए बोल रहा था, क्यों कि मुझे मालूम था, कि मैं जो कुछ बुआ को बताउन्गा, वो पहले मम्मी और फिर मम्मी से पापा को पता चल ही जाएगा. अब मुझे इस तरह बुआ से बातें करते हुए उतना असहज महसूस नही हो रहा था.

News