स्वामी विवेकानंद की मृत्यु कब हुई थी

विदेशी चूत की चुदाई

विदेशी चूत की चुदाई, मैं बोला मुझे अंकिता से नही मिलना. जो समय मुझे अंकिता मे मिलने मे लगेगा. वो मैं तेरे साथ बिताना चाहता हूँ. निक्की बोली आप वेवजह बात का बतंगड़ बना रहे है. मेरे कुछ भी करने से आपका कोई बुरा तो नही हुआ. उल्टे इस से आपका फ़ायदा ही हुआ है.

कीर्ति बोली मैं तो तुझे वैसे भी अच्छी नही लगती थी. मेरी चिंता मत कर. मैं भी धीरे धीरे खुश रहना सीख लुगी. तू तो खुश है ना. मेहुल बोला अबे मुझे तो कब से भूक लगी है. मैं तो तेरे लिए बैठा था. मुझे तेरी तरह देर से खाने की बुरी आदत नही है. मुझे तो 8 बजते ही भूक लगने लगती है.

कीर्ति बोली तुम दोनो तो ऐसे तैयार होकर आ गयी. जैसे तुम किसी पार्टी मे जा रही हो. अरे हम लोग काम से जा रहे है. ऐसे मे तुम्हारे ये कपड़े पहने का क्या मतलब है. विदेशी चूत की चुदाई कीर्ति बोली जाने दे ना. यदि बताने लायक बात नही है तो मत बता. मैं जानकार भी क्या करूगी. मैं तो पागल हूँ. तू मेरे साथ पागल मत बन. अपने दिमाग़ को ये टेन्षन देना बंद कर और इस बात को भूल जा.

ब्लू पिक्चर नंगी चुदाई वाली

  1. मैं बोला हाँ ऐसा ही होगा. ट्रेन मे था ना इसलिए नेटवर्क नही मिल रहे होंगे. अभी एक स्टेशन आया है तभी नेटवर्क मिला होगा.
  2. कीर्ति की बात सुनकर, एक पल के लिए मैं सकपका गया और उसे गौर से देखने लगा. उसके चेहरे पर वो ही जानी पहचानी मुस्कुराहट थी. मैने उसकी बात का जबाब देते हुए कहा. सेक्सी वीडियो खेतों वाली
  3. मैं बोला बहुत फरक है. तुम लोग हर आती जाती लड़की को देखते रहते हो और मैं सिर्फ़ अच्छी लड़कियों को देखता हूँ. इस सब के अलावा वो मेरी बहू भी थी. ऐसे मे मैं उसके साथ अपने आपको किसी भी तरह से सहज महसूस नही कर पा रहा था. मैं कुछ भी समझ नही पा रहा था. मैं इन्ही सोच मे गुम था. तभी पद्मि नी कपड़े बदल कर वापस आ गयी.
  4. विदेशी चूत की चुदाई...मैं बोला मुझे भी ऐसा ही लग रहा है. अच्छा ये बता. घर मे सब ठीक है ना. निमी का क्या हाल है. आज तो ज़रूर वो अपना स्कूल गोल कर गयी होगी. आज से पहले मुझे मौसी के घर जाने की बात से, कभी इतनी खुशी महसूस नही हुई थी. जितनी खुशी आज महसूस हो रही थी. मैं जल्द से जल्द मौसी के घर पहुच जाना चाहता था. जाते जाते मैं मन ही मन ये भी सोच रहा था कि मुझे कीर्ति से बात करने के लिए कैसे समय निकालना है.
  5. कीर्ति की सहेली देखने मे ना तो कीर्ति की तरह सुंदर थी और ना ही इतनी ज़्यादा आधुनिक थी. देखने मे वो बहुत सीधी सादी थी. शायद इसी सादगी की वजह से उसकी कीर्ति से दोस्ती हुई होगी. मुझे भी उसके बात करने का अच्छा लगा था. कीर्ति की इस बात पर मैं उसे, हॉस्पिटल मे उसके कॉल आने से लेकर, निक्की से साथ हुई हर एक घटना के बारे मे बताने लगा. वो बड़े गौर से मेरी बात को सुन रही थी.

जबरदस्त हिंदी सेक्सी

उसने मेरे हाथ को अपने सीने से अलग किया और फिर से किस करने लगी. मैं जानता था मेरे ऐसा करने से कीर्ति को दर्द होता है. फिर भी उसका इस तरह से मेरा हाथ अलग कर देना, मुझे अच्छा नही लगा. मेरी इस नाराज़गी का अहसास कीर्ति को चेहरे और किस करने से हो गया था.

कीर्ति बोली अरे तू तो उस पार्क के बारे मे जानती है. फिर भी ऐसी बात कर रही है. वहाँ ये सब खुले आम होता है. हां ये बात अलग है कि, वो सब करने वाले सिर्फ़ गर्लफ्रेंड बाय्फ्रेंड होते है. मैं मन ही मन अपने अनसुलझे सवालों का जबाब ढूँढ रहा था. तभी प्रिया की आवाज़ ने मुझे चौका दिया. मैने उसकी तरफ देखा तो, वो बड़ी ही मासूमियत से कह रही थी.

विदेशी चूत की चुदाई,अपनी बात बोल जाने के बाद मुझे ये अहसास हुआ कि, मुझे ये बात नही कहनी थी. इसलिए मेरा सर शरम से झुक गया. लेकिन दादू मेरी बात सुन चुके थे. वो पुराने खिलाड़ी थे. उन्हो ने मुझसे कहा

मैने अपनी आँख खोल कर देखा तो वो खामोश बैठी थी और उसकी आँखों से आँसू बहे जा रहे थे. ये देख कर मैं तुरंत उठा.

मैं बोला ये फालतू की बात छोड़. अभी मुझे तुझको एक बात और बतानी है. तू ये बोल अभी तेरे पास समय है या नही.सेक्सी वीडियो न्यू मूवी

निक्की बोली हाँ जब मैने उसे जगाया था. तब वो बहुत गहरी नींद मे थी. शायद इसीलिए वो आपके कमरे मे बेड देखते ही सो गयी होगी. ये तो इसकी बचपन की आदत है. मैं बोला नही यार, आज भूक ही नही है. अब मैं सीधे रात को ही खाना खाउन्गा. अभी मुझे राज के घर भी पहुचना है. सुबह से गायब हूँ. पता नही वो लोग क्या सोच रहे होगे.

फिर मैं और निक्की मेहुल के आने के बाद घर निकल गये . मैं जाते ही अपने रूम चला गया मेरे दिल पर एक बोझ सा था दिल में कुछ घुटन सी हो रही थी मैने कीर्ति को फ़ोन मिलाया

पापा बोले नही कीर्ति बेटा. ये मैं हम सब के साथ खाने के लिए लाया हूँ. अगर वो हम सब के साथ बैठ कर खाना नही खा सकता तो, उसको ये सब भेजने की भी कोई ज़रूरत नही है. तुम खाना खाओ और उसकी चिंता छोड़ दो.,विदेशी चूत की चुदाई कीर्ति की बात सही थी. लेकिन मैं उसे कैसे बताता कि, मुझे उसका कॉल बिज़ी रहना क्यो अच्छा नही लगा. इसलिए मैने बात को बदलते हुए, उस से कहा.

News